कुख्यात गो तस्कर सपा नेता मो. मुजफ्फर के आर्थिक साम्राज्य पर फिर चलेगा हथौड़ा

 


कवरेज इंडिया न्यूज़ डेस्क प्रयागराज

प्रयागराज : कुख्यात गो तस्कर गिरोह के सरगना व कौड़िहार से सपा ब्लॉक प्रमुख मो. मुजफ्फर के आर्थिक साम्राज्य पर फिर हथौड़ा चलेगा। करीब छह करोड़ रुपये मूल्य की उसकी संपत्ति गैंगस्टर एक्ट के तहत जल्द ही कुर्क की जाएगी। इस संबंध में जिला प्रशासन की ओर से अनुमति मिल गई है। जिस संपत्ति को कुर्क करने की अनुमति मिली है, वह कौशाम्बी के पिपरी थाना क्षेत्र स्थित भीटी देवमाफी गांव में है।

यह पांच बीघे क्षेत्रफल वाली भूमि के रूप में है, जिस पर फिलहाल अमरूद का बाग है। पुलिस का कहना है कि मुजफ्फर ने यह संपत्ति अपराध से कमाए गए धन से अर्जित की। ऐसे में इसे गैंगस्टर के तहत कुर्क किया जाएगा। नवाबगंज के चफरी का रहने वाला मुजफ्फर वर्तमान में जेल में निरुद्ध है। उसके खिलाफ पिछले साल पूरामुफ्ती में गैंगस्टर के तहत केस दर्ज किया गया था। इस मामले में 13 अन्य भी आरोपी बनाए गए थे। इसी मामले में उसकी संपत्ति कुर्क करने की कार्रवाई चल रही है। 

अंतर जनपदीय गो तस्कर गिरोह का है सरगना :

मुजफ्फर पूरामुफ्ती थाने का हिस्ट्रीशीटर है। पुलिस के मुताबिक, वह अंतर जनपदीय गो तस्कर गिरोह का सरगना है। उस पर प्रयागराज के अलावा वाराणसी, कौशाम्बी, फतेहपुर, भदोही व चंदौली में 30 मुकदमे दर्ज हैं। इनमें से ज्यादातर मामले गोवध अधिनियम के हैं। पिछले साल उसने जेल में रहते हुए ब्लॉक प्रमुख का चुनाव जीता था।

2018 में दर्ज केस के आधार पर बना गैंगस्टर :

आठ भाइयों में सबसे बड़े मुजफ्फर के पांच भाई हिस्ट्रीशीटर हैं। 2018 में धूमनगंज में उसे 1.8 क्विंटल प्रतिबंधित मांस के साथ गिरफ्तार किया गया था। इसमें चार्जशीट दाखिल हो चुकी है। इसी मुकदमे के आधार पर पिछले साल पूरामुफ्ती पुलिस ने मुजफ्फर व उसके गैंग के 13 सदस्यों पर गैंगस्टर लगाया था।

एक दर्जन से ज्यादा संपत्तियों पर हो चुकी है कार्रवाई :

मुजफ्फर गैंग की एक दर्जन से ज्यादा संपत्तियों पर पहले ही कार्रवाई हो चुकी है। इससे पहले अगस्त में बम्हरौली उपरहार में छह व अप्रैल में पूरामुफ्ती के बेगम बाजार स्थित पांच भूखंड व मकानों को गैंगस्टर के तहत कुर्क किया गया था। इनका कुल मूल्य करीब 10 करोड़ रुपये बताया गया है। इसके अलवा नवाबगंज स्थित उसके मकान पर भी कार्रवाई की गई थी।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने