एक के बाद एक क्रांतिकारी फैसले के जरिए केजरीवाल बनना चाहते हैं देश की तीसरी ताकत, तैयारी पूरी

 

कवरेज इंडिया न्यूज़ डेस्क

New Delhi: 2024 के लोकसभा चुनाव में एनडीए और यूपी के बीच केजरीवाल तीसरी ताकत बनने की तैयारी में हैं। इसके लिए वे आम आदमी पार्टी का विस्तार करने में जुटे हैं। पंजाब की जीत ने आप को ऊर्जा दी है। गोवा में मिली दो विधानसभा सीटें और सूरत निगम जैसे चुनावों में मिली सफलता ने आप के उत्साह को बढ़ाया है।

भाजपा के एजेंडे का जवाब केजरीवाल अपने तरीके से दे रहे हैं। मुफ्त शिक्षा और स्वास्थ्य की वकालत के साथ दल्ली में पांच सौ बड़े तिरंगे लगाकर, देशभक्ति पाठ्यक्रम और हर हाथ तिरंगा कार्यक्रम के जरिए वे अपनी राष्ट्रीय पहचान बनाने का प्रयास कर रहे हैं।

गलतियों से लिया सबक 

10 वर्ष के सफर में आप ने कई उतार चढ़ाव देखे हैं। अपनी गलतियों से सबक लेकर आप राष्ट्रीय स्तर की पार्टी बनने की कोशिश में है। 2013 के दिल्ली विधानसभा चुनावों में आप को 28 सीटें मिली थी।  पार्टी बनाने के मात्र एक साल के अंदर आप ने दिल्ली में कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाई। यह सरकार मात्र 49 दिन चली, लेकिन आप को दिल्ली में स्थापित कर गई। इसके बाद आप ने सीधे राष्ट्रीय स्तर पर मोर्चा खोला। तब नरेंद्र मोदी के सामने बनारस से केजरीवाल उतरे लेकिन आप को सिर्फ पंजाब में ही चार लोकसभा सीटों पर जीत हासिल हुई। उसके सभी बड़े नेता हार गए। इसके बाद कई बड़े नेताओं के पार्टी छोड़ने और पंजाब के दो लोकसभा सासंदों के बागी होने से आप बैकफुट पर आ गई। 

पंजाब में जीत के बाद फिर मोदी पर हमलावर

2017 के पंजाब और गोवा विधानसभा चुनाव में आशातीत सफलता नहीं मिलने से आप ने दिल्ली पर फोकस किया। 2019 लोकसभा चुनाव से पहले आप ने जमकर केंद्र और मोदी सरकार पर निशाना लगाया, लेकिन भाजपा के दोबारा चुनाव जीतने के बाद सीधे टकराव से दूरी बनाई। मोदी पर अचानक हमलावर पंजाब की जीत के बाद केजरीवाल अचानक पीएम नरेंद्र मोदी पर हमलावर हो गए हैं। मई 2019 में आए लोकसभा नतीजों के बाद सीएम अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार से टकराव छोड़ दिया था। अब केजरीवाल अपनी पत्रकार वार्ता और अलग अलग प्रदेशों में हो रही जनसभा में केंद्र सरकार की नीतियों पर सवाल उठा रहे हैं।

संगठन किया मजबूत 

2019 लोकसभा चुनाव में मात्र एक सीट मिलने के बाद आप राज्यों में संगठन मजबूत करने में जुट गई। पंजाब में राघव चढ्ढा को प्रभारी बनाया गया। यहां आप की सरकार बन गई। गोवा में भी दो विधानसभा सीट मिलने के बाद आप को राज्यस्तरीय पार्टी का दर्जा मिला। सूरत के निगम चुनाव में जीत ने हौंसला बुलंद किया और पार्टी गुजरात और हिमाचल चुनाव की तैयारी में जुट गई।

दिल्ली के मुख्यमंत्री बनने से पहले अरविंद केजरीवाल एक सामाजिक कार्यकर्ता रहे है और सरकारी कामकाज में सुधार लाने के लिए संघर्ष करते रहें है। अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी की स्थापना 26 नवम्बर 2012 को बहुत से सहयोगियों के द्वारा दिल्ली की जंतर मंतर से की थी। जिसमें ये राष्ट्रीय संयोजक रहे।

आम आदमी पार्टी की स्थापना

ये बात है वर्ष 2010 जब अन्ना हजारे जी भारतीय किसानों के लिए जन-लोकपाल बिल लाने के लिए अनशन कर रहे थे। तब केजरीवाल जी भी उनके साथ जुड़े हुए थे और केजरीवाल के इलावा इनके कुछ साथी भी इस आंदोलन से जुड़े हुए थे। जिसके कारण इनकी लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही थी। तब अन्ना हजारे के साथ इनका मतभेद हुआ कि भारत के खिलाफ इस भ्रष्टाचार आंदोलन का राजनीतिकरण होना चाहिए की नहीं। तभी आम आदमी पार्टी की नींव पड़ी और जन-लोकपाल बिल के लिए खड़े हुए उस आंदोलन ने एक राजनीतिक पार्टी का जन्म हुआ। जिसके संस्थापक केजरीवाल जी और उनके कुछ साथी थे। लेकिन अन्ना हजारे जी ने अपने आप को राजनीति से दूर ही रखा। इस प्रकार 02 अक्टूबर 2012 में आम आदमी पार्टी की स्थापना हुई।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने