प्रयागराज। मोहल्ले में घुसकर चालान काट रही झूंसी पुलिस, स्थानीय लोगों में रोष का माहौल

फोटो: प्रतीकात्मक

कवरेज इंडिया न्यूज़ ब्यूरो

प्रयागराज। झूंसी थानाध्यक्ष पर आए दिन कोई ना कोई बड़ा आरोप लगता रहता है, इस थाने का नक्षत्र ऐसा है कि यहां कोई भी थानेदार आए वह विवादों में घिर जाता है। अभी कुछ दिनों पूर्व ही झूसी थाने के एक पुलिस वाले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था जिसमें अंदावा स्थित एक टायर की दुकान पर जबरदस्ती टायर बदलवाने को लेकर बवाल काट रहा था। 

यही नहीं उसने पुलिसिया रौब दिखाते हुए न सिर्फ शोरूम के कर्मचारियों से गाली गलौज किया बल्कि शटर भी बंद करा दिया। इस मामले में एसएसपी ने तत्काल आरोपी पुलिसकर्मी के विरुद्ध कार्यवाही भी की थी। अब वर्तमान थाना प्रभारी को लेकर झूसी वासियों में जबरदस्त रोष देखने को मिल रहा है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि वाहन चेकिंग के नाम पर थाना प्रभारी व उनकी टीम बगैर किसी ट्रैफिक पुलिस वाले के साथ मोहल्लों में घुस जा रहे हैं जहां पर पकड़ पकड़ कर लोगों का चालान काट रही है, यह कार्य लाल चौक से लेकर, जेडीए कॉलोनी, यादव चौराहा, साईं मंदिर, शिव मंदिर, चश्मा घर, अनवर मार्केट जैसे जगहों पर किया जा रहा है जहां शाम के वक्त अक्सर लोग या तो खरीददारी करने निकलते हैं या फिर सब्जी, दूध बगैरह लेने के लिए। 

घर से चंद कदम की दूरी पर सब्जी लेने गया हुआ व्यक्ति यदि हेलमेट नहीं लगाया है तो थाना प्रभारी व उनकी टीम न सिर्फ उस व्यक्ति के साथ बदतमीजी से बात करते हैं बल्कि जबरन उसका चालान भी काट देते हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि पुलिस इस रवैया से हमारा शाम के वक्त घर से बाहर निकलना दूभर हो गया है, किसी छोटे से काम के लिए भी बाहर निकलिए तो पुलिस द्वारा हजारों का चालान काट दिया जा रहा है। पुलिस की इस मनमानी से न सिर्फ आने जाने वाले लोग परेशान हैं बल्कि स्थानीय दुकानदारों में भी रोष का माहौल है। पटरी दुकानदारों से लेकर स्थानीय दुकानदार भी पुलिस द्वारा जबरन काटे जा रहे चालान से परेशान हैं उनका कहना है कि ग्राहक सामान लेने आता है, गाड़ी खड़ी करते ही पुलिस वहां पहुंच जाती है और बदतमीजी के साथ बात करती है फिर चालान काटकर उन्हें उल्टे पांव लौटा देती है। इस कारण हमारी दुकानदारी पर भी प्रभाव पड़ रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने