जब यूपी में डाकू बस पर हमला करते हैं... - COVERAGE INDIA

Breaking

Wednesday, February 5

जब यूपी में डाकू बस पर हमला करते हैं...


वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार। 
बहुत सारी तस्वीरें हैं। आप देख सकेंगे कि हमले के वक़्त कैसे लोग झुक कर बैठे हैं। कई लोगों को चोटें आईं हैं।
बाक़ी सारा ब्यौरा इस पत्र में है-

कल रात्रि में हम देवरिया से वातानुकूलित जनरथ बस उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के बस से लखनऊ के लिए प्रस्थान किये, बस जब चौरीचौरा ढाले के दो किलोमीटर पहले ही थी तभी से जाम लग गया लगभग 1 घण्टे से ऊपर जाम लगा रहा रात्रि के लगभग 11 बजे हुए थे तभी चौरीचौरा ढाला खुला और बस आगे बढ़ी कुसम्ही जंगल के तरफ पहुचते ही बस को एक चार पहिया वाहन ( ब्रेजा) व दोपहिया वाहन ने पीछे से हॉर्न देकर रोकने का प्रयास किया फिर बस ड्राइवर को कुछ समझ नही आया उसको कुछ शक हुआ तो वह आगे बढ़ता गया फिर बस को रोकने की योजना के साथ बस में आकर किसी की हत्या का षड्यंत्र था या पूरे बस में बैठे सभी यात्रियों को लूटने की योजना थी यह तो पुलिस जांच का विषय है लेकिन आप सभी को बता दू की पूरे बस को रोकने के चक्कर मे पूरे बस पर बड़े बड़े ईट चलाकर पूरे बस के शीशे तोड़ डाले सब अपराधी फिर भी बस नही रोका ।

चालक को उसके ऊपर भी ईट चलाये लेकिन वह बच गया लेकिन दूसरे यात्री का सिर फट गया और लगातार पत्थरों से मारकर पूरे बस को तोड़ डाले सभी यात्री घयल भी हुए, मेरे कमर व पैर में चोट लगी हुई हैं, हमने अपने आत्मबल से जितना हो सका उतना प्रयास कर स्वयं को भी सुरक्षित किये साथ ही सबकी रक्षा का पूर्ण समर्थ प्रयास किये व ड्राइवर सीट के पास जाकर ड्राइवर को उत्साह देकर गाड़ी न रोकने की अपील करते रहे जिससे कल रात्रि में जान बच सकी, साथियो पूरे यात्रियों ने 112 मिलाते रह गए कोई रेस्पॉन्स नही मिला, हमने ssp गोरखपुर को जब काल किये तो उनका पीआरओ फोन उठाये फिर सब सुनकर चौरीचौरा थाने को फोन किये जब चौरीचौरा थानाध्यक्ष का फोन आया तो हम लोग घायल यात्रियों के साथ खोराबार तक पहुच गए थे ।

साथियो उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जनपद में इस तरह का गोरोहबन्द अपराध अपने चरम पर है और प्रदेश के मुखिया का यह जनपद है, पुलिस की कार्यप्रणाली से कल पूरी यात्रियों को सिर्फ निराशा मिली, शायद अपने जान पर खेलकर अपने आत्मबल से कल उन अपराधियों का मुकाबला नही हुआ रहता तो शायद कल कुछ और ही मंजर हो गया रहता ।साथियो अभी हम सुरक्षित है, स्वस्थ है, कमर व पैर में चोट आई है ईट से मुझे भी, ईश्वर मेरे साथ अन्य घायल यात्रियों को भी जल्द स्वस्थ करे । बस के किसी भी यात्री का चाहे वह हम रहे हो या अन्य या किसी का पूरा परिवार रहा हो ,उनकी हत्या करने के मंसूबे से गाड़ी रुकवा रहे थे या पूरे गाड़ी के सभी यात्रियों को लूटने का मंसूबा था यह तो जांच के उपरांत ही पता चल पाएगा लेकिन जो स्थिति थी वह पूरी तरह खून की प्यासी थी ।

भयावह मंजर चौरीचौरा ढाले के आगे की है , पूरे जनरथ बस के यात्री कैसे कैसे अपनी जान बचाते हुए, उस समय की यह डरावनी वीडियो जो किसी तरह से बन पाई है

Our Video

MAIN MENU