गुजरात के एक कालेज से शर्मनाक खबर, 68 छात्राओं के कपड़े उतरवाकर की जांच - COVERAGE INDIA

Breaking

Saturday, February 15

गुजरात के एक कालेज से शर्मनाक खबर, 68 छात्राओं के कपड़े उतरवाकर की जांच


कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क। 
अगर किसी कॉलेज में कोई सैनेटरी पैड मिल जाये तो क्या सिर्फ़ वहां के नियमों की ख़ातिर संस्थान की छात्राओं को इस बात के लिये मजबूर किया जाएगा कि वे कपड़े उतारकर इस बात का सबूत दें कि उन्हें पीरियड्स हो रहे हैं या नहीं। 21वीं सदी के आधुनिक समय में भी ऐसी घटना हुई है और यह घटना गुजरात के भुज में स्थित एक कॉलेज में हुई है। कॉलेज की हॉस्टल की छात्राओं से उनके पीरियड्स की स्थिति के बारे में जानने के लिये कपड़े उतरवाये गये। यह घटना सहजानंद गर्ल्स इंस्टीट्यूट में हुई है।
यह भी पढ़ें - कंगाली की कगार पर खड़े पाकिस्तान भारत ने दिया बड़ा झटका, भारत से हार गया 300 करोड़ की कानूनी लड़ाई
कॉलेज की एक पीड़ित छात्रा ने अंग्रेजी अख़बार ‘द टाइम्स ऑफ़ इंडिया’ (टीओआई) को बताया कि यह कठोर मानसिक यातना की तरह थी और उसके पास इसे बताने के लिये शब्द नहीं हैं। पीड़ित छात्रा ने बताया कि इंस्टीट्यूट की कुल 68 छात्राओं को इस यातना से गुजरना पड़ा। कॉलेज की प्रिंसिपल और टीचर्स ने छात्राओं को कपड़े उतारने के लिये मजबूर किया। घटना के सामने आने के बाद इसे लेकर कॉलेज की प्रिंसिपल और टीचर्स की जमकर आलोचना हो रही है।
यह भी पढ़ें - मोदी के संसदीय छेत्र में पुलवामा हमले में शहीद परिवार को 1 वर्ष बीतने के बाद भी नही मिली मदद

कैसे शुरू हुआ विवाद 
पीड़ित छात्राओं के मुताबिक़, यह पूरा विवाद तब शुरू हुआ जब सोमवार को हॉस्टल के गार्डन में एक गंदा सैनेटरी पैड पड़ा मिला। पहले यह शक हुआ कि हॉस्टल की ही किसी छात्रा ने इसे वॉशरूम की खिड़की से बाहर फेंक दिया होगा लेकिन हॉस्टल का प्रबंधन जानना चाहता था कि किसने यह पैड फेंका है। प्रबंधन का कहना था कि ऐसा करके कॉलेज के नियमों का उल्लंघन किया गया है। 

Our Video

MAIN MENU