मोदी के संसदीय छेत्र में पुलवामा हमले में शहीद परिवार को 1 वर्ष बीतने के बाद भी नही मिली मदद - COVERAGE INDIA

Breaking

Friday, February 14

मोदी के संसदीय छेत्र में पुलवामा हमले में शहीद परिवार को 1 वर्ष बीतने के बाद भी नही मिली मदद


कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क वाराणसी। 
मोदी मोदी मोदी चिल्लाने वालों क्या ये फर्जी है राष्ट्रवाद! आँखे खोल कर देखिये ये पुलवामा में शहीद रमेश यादव वाराणसी  की माँ हैं  जो जिनके आँसू बेटे की याद में बंद नहीं होते  शहीद रमेश यादव की पत्नी, बड़ा भाई है और बुजुर्ग पिता दूध साइकिल से ले जाते हैं। शहीद की मां से जब बेटे के नाम पर सरकार द्वारा सहयोग करने के बारे में मीडिया ने बात की तो उनके आंसू बंद होने का नाम नहीं ले रहे थे।

शहीद रमेश का ढाई साल का बेटा घर के प्रांगण में खेल रहा था। शायद उसे अभी भी ये मालुम नहीं कि उसके पिता कहां हैं। क्योंकि हमले की वक्त उसकी उम्र मात्र डेढ़ वर्ष की ही थी। घर की हालत भी कुछ ठीक नहीं है। हमले के 1 साल बीतने को हैं शहीद के गांव में उनके नाम पर न तो शिलापट्ट लगाई गई, न शहीद स्मारक बना, न ही मूर्ति की स्थापना हुई और न ही शहीद के नाम पर गांव में प्रवेश द्वार बना। यहां तक की गांव के सड़क ही हालत तक नहीं बदली। जैसे की तैसी अभी भी गांव की हालत बनी हुई है।

Our Video

MAIN MENU