कल्प वासियों और तीर्थ यात्रियों को मेले में लूट रहे हैं दुकानदार - COVERAGE INDIA

Breaking

Monday, January 27

कल्प वासियों और तीर्थ यात्रियों को मेले में लूट रहे हैं दुकानदार


डा. भगवान प्रसाद उपाध्याय, कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क प्रयागराज। 
प्रयागराज  ।माघ मेला क्षेत्र में प्रकृति ने लगातार 15 दिन तक कल्प वासियों की कठिन परीक्षा ली और अब रिक्शा चालक और दुकानदार कल्प वासियों को लूटने की होड़ मचा रहे हैं । बता दें कि मेला क्षेत्र में इस समय कहीं भी सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान नहीं दिखती हर चौराहों पर निजी दुकानदारों ने कब्जा करके लूट खसोट करने की मुहिम चला रखी है पराग का दूध यहां ₹35 प्रति पैकेट तक बिक रहा है अन्नपूर्णा मार्ग और हरिश्चंद्र मार्ग चौराहे पर बिना किसी लाइसेंस के खोली एक दुकान में दूध सुबह-सुबह उपलब्ध था लोग ₹35 देकर खरीद रहे थे पूछने पर दुकानदार ने बताया कि मुझे खुद ही ब्लैक में मिला है इसी तरह ओल्ड जीटी मार्ग और आचार्य बाड़ा मार्ग चौराहे पर उत्तर पटरी में खुली किराने की दुकान में मनमानी दाम पर सामान बेचा जा रहा है।

मेले में प्रत्येक जगह चीनी ₹40 में बिक रही है वह दुकानदार ₹42 किलो बेच रहा है सबसे बड़ी बात यह है कि इन लोगों ने अपना स्वयं का मूल्य निर्धारित किया है खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारी आंख मूंदे कान में तेल डाले बैठे हैं उन्हें सिर्फ वसूली से मतलब है इसलिए दुकानदारों ने भी कल्प वासियों और यात्रियों को लूटने का तांडव मचा रखा है बता दें कि मेला क्षेत्र में चलने वाले ई-रिक्शा और विक्रम टेंपो भी मनमानी किराया ले रहे हैं पुल नंबर 5 से संगम लोवर तक जाने के लिए डेढ़ डेढ़ सौ रुपए की मांग की जाती है बांध पर आने के लिए ₹100 की मांग की जाती है थोड़ी दूर जाने का भी किराया न्यूनतम ₹50 लिया जाता है।

इस तरह मनमानी लूट मेले में इसके पहले कभी नहीं देखी गई थी कल्प वासियों ने बताया कि इस वर्ष किसी का राशन कार्ड भी नहीं बनाया गया है और उन्हें मजबूर होकर राशन चीनी तेल इत्यादि महंगे दाम पर खरीदना पड़ रहा है सब्जी के दामों में भी मनमानी लूट हो रही है मेला प्रशासन इस ओर से पूरी तरह या तो अनभिज्ञ है या जानबूझकर आंख मूंदे हुए है कल्प वासियों ने इस लूट पर तत्काल प्रतिबंध लगाने की मांग की है। 

Our Video

MAIN MENU