क्यू नहीं होते मुस्लिम महिलाओं से बलात्कार, पढें, और खुद समीक्षा कीजिए - COVERAGE INDIA

Breaking

Tuesday, December 10

क्यू नहीं होते मुस्लिम महिलाओं से बलात्कार, पढें, और खुद समीक्षा कीजिए




कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क। 
अक्सर यह देखा गया है कि बलात्कार के अधिकतर मामलों में हिंदू महिलाओं के साथ ही बर्बरता होती है। यही नहीं ज्यादातर मामलों में सिर्फ और सिर्फ हिंदू महिलाओं को ही निशाना क्यों बनाया जाता है। इसके 2 कारण हैं

पहला मुस्लिम महिलाएं अपनी मर्यादा जानती है मर्यादा में रहती है, पब्लिक में पराये पुरुषों से हसती बोलती नही है, उनके वस्त्र शालीन होते है उसपर भी वो काला बुरखा पहन कर घूमती है जिस से वो पुरुषों को आकर्षित नही कर पाती , चाहे मुस्लिम महिला पढ़ी लिखी हो डॉक्टर हो वकील हो चाहे कितनी भी बड़ी पद पर आसीन हो तब भी वो अपने मज़हब का आदेश नही त्यागती हिजाब पहन कर ही बाहर निकलती है, और हां आधी रात को आवश्यक ना हो तब तक वो बाहर आपको भटकति नही दिखेगी, ना चाट पकौड़ी खाती ना पब में डांस करती मिलेगी ये औरते ना सिनेमा में 12 बजे के शो में दिखाई देती ना सड़क पर सिगरेट दारू और लड़कों के साथ भटकती दिखेगी,

विपरीत इसके , हिन्दू औरतों को जीतनी आज़ादी दे दो उसको कम लगती है, उसको सब कुछ करना है जो पुरुष करता है उसको गाली देना, दारू पीना सिगरेट पीना और सब कुछ वो करना पसंद है जो पुरुष करते है (घटियापन)

दूसरी बात मुस्लिम पुरुष अपनी औरतों के तरफ आँख उठा कर देखने वालों को काट डालते है चुप नही बैठते, अपराधी होकर भी अपने लोगो को बचाने की एकता उनमें होती है इतनी की मुस्लिम बहुल इलाके में घुसने की पुलिस की हिम्मत नही होती,


ये दोनो बड़े कारण है जो उनकी महिलाओं को सुरक्षित रखते है
इसमें पहला कारण अधिक कारणीभूत है औरतों को इज्जत उनके हाथ मे होती है जितनी सुरक्षा औरत अपने आप को दे सकती है उतना कोई नही दे सकता है, अगर विश्वास नही तो औरते 15 दिन बुरखे में घूम कर देख ले कौन आप पर नज़र उठा कर देखता है कौन नही आप स्वयं समझ जाएगी।

लेखक
स्नेहा जी अग्रवाल -
हिन्दू धर्म सेविका है 

Our Video

MAIN MENU