योगी और केजरीवाल- दोनों में जमीन आसमान का अंतर - COVERAGE INDIA

Breaking

Tuesday, October 29

योगी और केजरीवाल- दोनों में जमीन आसमान का अंतर


कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क। 
एक सन्यासी है और दूसरा बाल-बच्चेदार गृहस्थ। एक ने राम जी के स्वागत में 133 करोड़ दीपक जलाने पर फूंक दिए। दूसरे ने 140 करोड़ का इंतजाम कर दिल्ली की करीब 14 लाख महिलाओं के लिए पांच महीने की मुफ्त बस यात्रा का इंतजाम किया।

ध्यान रहे ज्यादातर कामकाजी कमजोर तबकों की महिलाएं हैं। जो मेट्रो का महंगा किराया वहन नहीं कर सकती। उनके लिए प्रतिदिन 20, 30 या 50 रूपए की बचत बहुत मायने रखती है।

सन्यासी बलात्कारियों पर से मुकदमें हटाता है, दूसरा महिलाओं की सुरक्षा के लिए 13 हजार सुरक्षाकर्मियों की बसों में व्यवस्था करता है।

सन्यासी दिन-रात घृणा से भरा मुसलमानों-ईसाईयों के खिलाफ जहर उगलता रहता है।

दूसरा सोचता है कि कैसे दिल्ली के आम लोगों के लिए बेहतर स्वास्थ्य एवं शिक्षा का इंतजाम किया जाए और कैसे आम लोगों को बिजली-पानी के बिल में राहत दी जाए। कैसे श्रमिकों की न्यूनतम मजदूरी बढाई जाए। कैसे सड़क हादसे के शिकार लोगों को बचाया जाए।

ज्यादा संवेदनशील तो सन्यासी को होना चाहिए, लेकिन यह संवेदनशीलता तो कभी दिखती नहीं है। चाहे आक्सीजन के बिना बच्चे मरे, या मीड डे मील में बच्चे नमक रोटी खाएं।

Our Video

MAIN MENU