अब फ्री नहीं जियो पर वॉइस कॉल, देने होंगे 6 पैसे प्रति मिनट - COVERAGE INDIA

Breaking

Wednesday, October 9

अब फ्री नहीं जियो पर वॉइस कॉल, देने होंगे 6 पैसे प्रति मिनट


कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क। 
नई दिल्ली : कॉल टर्मिनेशन चार्ज से जुड़े नियमों की अनिश्चितता के कारण उद्योगपति मुकेश अंबानी की टेलिकॉम कंपनी रिलायंस जियो ने बुधवार को घोषणा की है कि वह कस्टमर्स से कॉलिंग के पैसे लेगा। जियो यूजर्स को जियो के अलावा बाकी नेटवर्क पर किए जाने वाले वॉयस कॉल के लिए 6 पैसे प्रति मिनट चार्ज किया जाएगा, लेकिन उन्हें बराबर मूल्य का फ्री डेटा देकर जियो इसे बैलेंस भी करने वाला है।

ट्राई के फैसले से नुकसान :
2017 में दूरसंचार नियामक ट्राई ने इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज (IUC) को 14 पैसे से 6 पैसे प्रति मिनट तक घटा दिया था और कहा था कि इसे जनवरी, 2020 तक खत्म कर दिया जाएगा। अब ट्राई ने रिव्यू के लिए एक कंसल्टेशन पेपर मंगवाया है कि क्या इस टाइमलाइन को बढ़ाने की जरूरत है। चूंकि जियो नेटवर्क पर वॉइस कॉल फ्री हैं, इसलिए कंपनी को भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया जैसे ऑपरेटर्स को किए गए कॉल्स के लिए 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान करना पड़ा है।

इनकमिंग कॉल्स होंगी फ्री :
ट्राई के इस कदम से हुए नुकसान की भरपाई के लिए जियो ने अपने राइवल के नेटवर्क पर हर कॉल के लिए ग्राहकों से 6 पैसे प्रति मिनट का चार्ज लेने का फैसला किया है। यह पहली बार होगा जब जियो यूजर्स वॉयस कॉल के लिए पेमेंट करेंगे। अब तक जियो केवल डेटा के लिए चार्ज लेता है, और देश में कहीं भी और किसी भी नेटवर्क पर वॉइस कॉल पूरी तरह फ्री है। हालांकि, सभी नेटवर्क से इनकमिंग कॉल्स पहले की तरह फ्री में जारी रहेंगी।

ट्राई का फैसला है वजह :
जियो के बयान में कहा गया है कि ट्राई की ओर से मांगे गए कंसल्टेशन पेपर की वजह से स्थिति स्पष्ट नहीं हो सकी है और जियो को न चाहते हुए भी, मजबूरी में आईयूसी चार्ज लगने तक कस्टमर्स से ऑफ-नेट मोबाइल कॉल्स के लिए 6 पैसे प्रति मिनट लेने पड़ रहे हैं। जियो बुधवार से होने वाले सभी रीचार्ज के बाद कस्मर्स से जियो के अलावा दूसरे मोबाइल ऑपरेटर्स पर किए गए कॉल्स के लिए आईयूसी टॉप-अप वाउचर के माध्यम से 6 पैसे प्रति मिनट चार्ज लेगा।

बदले में मिलेगा एक्सट्रा डेटा : 
ट्राई की ओर से टर्मिनेशन चार्ज शून्य न किए जाने तक कस्टमर्स को यह कॉलिंग चार्ज देना पड़ेगा। हालांकि, इस रकम के बदले आईयूसी टॉप-अप वाउचर की खपत के हिसाब से उतना ही डेटा यूजर्स को एक्सट्रा दिया जाएगा। जियो ने बताया कि आईयूसी फीस के तौर पर पिछले तीन साल में कंपनी ने एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया जैसे राइवल टेलिकॉम ऑपरेटर्स को लगभग 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान अब तक किया है।

Our Video

MAIN MENU