नेहरू युद्धविराम न करते तो POK भारत में होता - गृह मंत्री के अमित शाह - COVERAGE INDIA

Breaking

Sunday, September 22

नेहरू युद्धविराम न करते तो POK भारत में होता - गृह मंत्री के अमित शाह

If Nehru did not ceasefire POK would have been part of India: Amit Shah

कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क। 
मुंबई, महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव का ऐलान होते ही प्रदेश की राजनीति गरमा गई है और प्रदेश की राजनैतिक पार्टीया एक्शन में आ गई है. केंद्रीय गृह मंत्री के अमित शाह ने चुनावी प्रचार का बिगुल भी फूंक दिया है। महाराष्ट्र में बीजेपी चुनाव अभियान का आगाज करते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि अगर युद्धविराम न होता तो POK भारत का हिस्सा होता। शाह ने कहा कि POk भारत का अभिन्न हिस्सा है। चुनाव के ऐलान के बाद पहली बार मुंबई पहुंचे अमित शाह ने अनुच्छेद 370 पर कांग्रेस पार्टी को जमकर घेरा। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से लेकर राहुल गांधी तक को निशाने पर रखा। अमित शाह ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) बनने के पीछे देश के पहले पीएम पंडित जवाहरलाल नेहरू को दोषी ठहराते हुए कहा कि अगर उन्होंने ने 1947 में युद्धविराम का ऐलान नहीं किया होता तो POK भारत का ही हिस्सा होता। बीजेपी नेता ने दावा किया कि महाराष्ट्र में एक बार फिर से बीजेपी की सरकार बनेगी और देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री बनेंगे। अमित शाह मुंबई में धारा 370 पर कार्यक्रम को संबोधित करने पहुंचे थे।

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धारा 370 और 35A हटाने के लिए बधाई दी और कहा कि भारतीय जनता पार्टी और भारतीय जनसंघ हमेशा से ही इन्हें हटाने की लड़ाई लड़ रहे थे क्योंकि ये भारत को एक करने में बाधा बने हुए थे। इस दौरान उन्हें 1947 में कश्मीर की रियासत का भारत में विलय नहीं हो पाने को लेकर पंडित नेहरू को जिम्मेदार ठहराया। शाह ने कहा कि जिन रियासतों के विलय की जिम्मेदारी सरदार वल्लभ भाई पटेल को दी गई थी, उन सभी का सफलता से विलय हो गया लेकिन जिस एक रियासत का जिम्मा पंडित नेहरू पर छोड़ा गया, वही भारत में शामिल नहीं हो सकी। उन्होंने कहा कि कश्मीर के महाराज ने विलय से इनकार कर दिया जिसके बाद पाकिस्तान ने 20 अक्टूबर, 1947 को कश्मीर पर कबाइलियों के रूप में हमला कर दिया।

इसके बाद जब महाराज ने कश्मीर का विलय भारत के साथ किया तो 27 अक्टूबर को भारतीय सेना वहां गई और धीरे-धीरे पाक की सेना को खदेड़ते गए। शाह ने आरोप लगाया कि एक दिन अचानक नेहरू ने युद्धविराम घोषित कर दिया। POK का अस्तित्व ही नहीं होता अगर युद्धविराम नहीं किया गया होता। उन्होंने कहा कि नेहरू की भूल के कारण PoK का मुद्दा खड़ा है। केंद्रीय गृह मंत्री बताया आर्टिकल 370 को देश में आतंकवाद का कारण बताया। उन्होंने दावा किया कि इसके कारण कश्मीर से कश्मीरी पंडितों, सूफी-संतों को निकाल दिया गया और आतंकवाद चरम पर पहुंचा। अब तक 370 के कारण करीब 40,000 लोग मारे गए फिर भी कांग्रेस पूछती है कि 370 को क्यों हटाया गया। उन्होंने दावा किया कि 5 अगस्त 2019 से लेकर अब तक कश्मीर में एक भी व्यक्ति की मौत नहीं हुई है।

Our Video

MAIN MENU