मनोविज्ञान कार्यक्रम का हो रहा है आयोजन लेकिन मानसिक रूप से बीमार है कौशाम्बी पुलिस - COVERAGE INDIA

Breaking

Monday, September 23

मनोविज्ञान कार्यक्रम का हो रहा है आयोजन लेकिन मानसिक रूप से बीमार है कौशाम्बी पुलिस


सुशील केशरवानी, कवरेज इण्डिया कौशाम्बी। 
कौशाम्बी। जिले में अपराध चरम पर है अपराधी बेखौफ है और तमाम गम्भीर घटनाओ को रोज पुलिस हजम कर जाती है अपराधियो के गलबहिया डाले पुलिस कानून व्यवस्था चलाना चाहती है जबकि निर्दोष बेकसूर लोगो के साथ साथ पत्रकारो पर फर्जी मुकदमा दर्ज कराकर उनका उत्पीडन करने में पुलिस पीछे नही है। तीन दिनो पूर्व सराय अंकिल कस्बे में दलित नाबालिग बालिका के साथ गैर समुदाय के लोगो द्वारा किये गये गैंगरेप की घटना को हजम करने की पुलिस ने भरसक कोशिश किया है लेकिन जनाक्रोश भडकने पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया एक आरोपी को जनता ने पकडकर पुलिस को सौपा उसे तो पुलिस ने जेल भेज दिया लेकिन घटना के दो नामजद अभियुक्त तीन दिन बाद भी पकडे नही गये है।जिन पर इनाम घोषित कर दिया गया है

 दलित नाबालिग बालिका के साथ गैंगरेप की घटना के बाद मुकदमा दर्ज कराने पहुचे उसके पिता को सराय अंकिल पुलिस ने लाठियो से पीटा है। अपराधियो को संरक्षण देने वाले एैसे सराय अंकिल कोतवाल पर एफआईआर और निलम्बन से कम समझौता नही होना चाहिए लेकिन घटना को तीन दिन बीत जाने के बाद भी एैसे कोतवाल पर लाइन हाजिर कर महकमे के अधिकारियो ने ठोस कार्यवाही करने के बजाय उसे बचाने का भरसक प्रयास कर रहे है। पुलिस जिस उपनिरीक्षक को लाइन हाजिर करने की बात कह रही है उस उपनिरीक्षक के हल्का क्षेत्र में गैंगरेप की घटना नही हुयी है पूरे मामले में पर्दा डालने के लिए निर्दोष दरोगा दिलीप गुप्ता को लाइन हाजिर किया गया है लेकिन हल्का क्षेत्र के दरोगा दीपक सोनकर पर भी अभी तक कार्यवाही नही हो सकी है जिससे साफ झलक रहा है कि पुलिस महकमा मानसिंक रूप से गम्भीर बीमार है और इन्हे इलाज की जरूरत है।

 गौरतलब है कि सराय अंकिल थाना अन्तर्गत कस्बे की एक दलित नाबालिग बालिका उम्र 13 वर्ष के साथ शनिवार को दिन दहाडे गैर समुदाय के लोगो ने उसे घसीट कर गैंगरेप किया और गैंगरेप करते हुए बालिका का वीडीओ बनाया वीडीओ में बालिका रोती चिल्लाती रही लेकिन जल्लाद बने बलात्कारी नही पसीजे हो हल्ला सुनकर आस पास के ग्रामीण जुटे और बालिका को जल्लादो के चंगुल से आजाद कराया बालिका का पिता मदद लेने के लिए सराय अंकिल कोतवाल के पास पहुचा जहॉ दलित नाबालिग बालिका के साथ गैंगरेप की घटना को हजम करने के मकसद से सराय अंकिल पुलिस इंस्पेक्टर ने पीडित बालिका के पिता को लाठियो से पीटना शुरू कर दिया इस बात से जनाक्रोश भडक गया और सैकडो लोगो ने थाने का घेराव कर धरना प्रदर्शन ,नारेबाजी और सडक जाम कर दिया। गैंगरेप के दौरान बनायी गयी वीडीओ सोशल मीडिया में वायरल होने लगी पीडित बालिका की मॉ चायल विधायक संजय गुप्ता के कार्यालय पहुच कर मुकदमा दर्ज कराने की फरियाद की बिगडते माहौल को देखकर पुलिस आलाधिकारी भी सराय अंकिल थाने पहुच गये और देर शाम गैंगरेप का मुकदमा दर्ज हो सका।

घटना को तीन दिन बीत जाने के बाद निर्दोष दरोगा को निलम्बित कर पुलिस अधिकारी वाह वाही लूट रहे है। लेकिन सराय अंकिल के दोषी कोतवाल हल्का उप निरीक्षक पर अभी तक आलाधिकारियो ने ठोस कार्यवाही नही की है। अब सवाल यह उठता है कि गैंगरेप की घटना के बाद दोषी कोतवाल को कौन बचा रहा है यह जॉच का विषय है और यदि इस प्रकरण पर केन्द्र प्रदेश सरकार ने संज्ञान लिया तो बडे चेहरे बेनकाब होगें।

Our Video

MAIN MENU