विक्रम लैंडर के लिए नैनी पुल के खंभे पर चढ़ा था रजनीकांत - COVERAGE INDIA

Breaking

Thursday, September 19

विक्रम लैंडर के लिए नैनी पुल के खंभे पर चढ़ा था रजनीकांत


कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क प्रयागराज। 
प्रयागराज की यह खबर सुनकर शायद आप हैरत में पड़ जाएंगे। कुछ लोगों को यकीन भी नहीं होगा कि नए यमुना पुल के खंभे पर एक शख्स सोमवार शाम तिरंगा लेकर चढ़ गया और दो दिन जी हां पूरे 48 घंटे बाद पुलिस प्रशासन की मदद से उतारा गया। चौंकाने वाली बात यह है कि H के आकार के खंभे पर एक सीमित जगह है, जहां कुछ कदम ही टहला जा सकता है लेकिन रजनीकांत नामक शख्स वहीं पर 48 घंटे तक बैठा रहा। अब पुलिस ने उस व्यक्ति के बारे में पूरी जानकारी दी है। पुलिस ने बताया कि यह व्यक्ति पहले भी 4-5 बार पुल के खंभे पर यूं ही चढ़ गया था। कभी यह गौशाला बनवाने की मांग कर रहा था तो कभी कहता कि नौकरी नहीं मिल रही। इस बार वह दो दिन से पुल के खंभे पर बैठा रहा। उसका कहना है कि चांद पर मौजूद विक्रम लैंडर से संपर्क नहीं हो पा रहा था इसलिए वह वहां से प्रार्थना कर रहा था। उसने कहा कि वह योगी आदित्यनाथ और पीएम मोदी से मिलने के लिए यज्ञ कर रहा था। पत्रकारों ने जब पूछा तो रजनीकांत ने कहा कि मुझे योगी आदित्यनाथ से मिलना है और अगर वहीं नहीं मिले तो मैं अपनी जान दे दूंगा। उसने आगे कहा कि मैं गोरक्षक हूं। रजनीकांत ने कैमरे के सामने भी कहा कि चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर से इसरो का संपर्क टूट गया था इसलिए मैं आसमान में सबसे ऊंचे खंभे पर चढ़कर प्रार्थना कर रहा था। आपको बता दें कि प्रयागराज में इतनी बड़ी क्रेन नहीं थी, बुधवार को विशेष क्रेन बनारस से मंगाई गई और जवानों की सूझबूझ से इस व्यक्ति को पुल के खंभे से उतारा गया। रजनीकांत के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के लिए नैनी पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया है। बुधवार को इस पूरे ऑपरेशन के दौरान यातायात करीब पौन घंटे तक बाधित रहा।

Our Video

MAIN MENU