स्वामी चिन्मयानंद केस में दर्ज हुए पीड़िता के 164 के बयान - COVERAGE INDIA

Breaking

Monday, September 16

स्वामी चिन्मयानंद केस में दर्ज हुए पीड़िता के 164 के बयान


सानू सिंह चौहान, कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क शाहजहांपुर। 
शाहजहांपुर में शोषण और रंगदारी के मामले में जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ रही है, आरोपी स्वामी चिन्मयानंद की मुश्किलें भी बढ़ती जा रही हैं. सूत्रों के मुताबिक अब तक की जांच में तमाम ऐसे साक्ष्य मिले हैं, जिससे पीड़ित लड़की के बयानों की पुष्टि हो रही है. लड़की के इसी दावे को कानूनी रूप से पुख्ता करने के लिए एसआईटी धारा 164 के तहत पीड़िता के बयान न्यायिक मजिस्टेट प्रथम महिला जज के समक्ष कलमबंद व्यान दर्ज करवाये  क्योंकि सी आर पी सी की धारा 164 के तहत होने वाले बयान की कानूनी वैधता होती है. पीड़ित लड़की का यह बयान बंद कमरे में जज के सामने दर्ज किया गया . इस दौरान पीड़िता करीब 4 घंटे न्यायालय के कक्ष में मौजूद रही पीड़िता द्वारा कही गई बातों को सबूत के तौर पर माना जाएगा. एसआईटी अपनी जांच में भी उस बयान को शामिल करेगी. इससे पहले एसआईटी ने इस मामले में लड़की के तमाम दोस्तों, स्वामी चिन्मयानंद के आश्रम के कर्मचारियों और दूसरे कॉलेजों के टीचिंग स्टाफ से भी पूछताछ की है.

पूछताछ का दौर पिछले 1 हफ्ते से चल रहा है. जिसमें स्वामी चिन्मयानंद के मुमुक्ष आश्रम और गेस्ट हाउस समेत उनके बेडरूम की भी जांच की जा रही है. सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के मुताबिक 23 सितंबर को हाईकोर्ट के सामने स्टेटस रिपोर्ट सौंपने से पहले एसआईटी हर पहलू से जांच कर रही है. ताकि उसे सुप्रीम कोर्ट की फटकार न खानी पड़े.

सुप्रीम कोर्ट इस मामले में पहले ही जांच एजेंसी पर हीलाहवाली की बात कहकर नाराजगी जता चुका है. लिहाजा एसआईटी के अफसर दिन रात एक कर इस मामले में कथित तौर से शामिल सभी आरोपियों को पूछताछ के लिए बुला चुके हैं. साथ ही साथ पीड़ित लड़की के दोस्त संजय सिंह समेत बाकी लड़कों से भी पूछताछ कर चुके हैं.


इस मामले में पीड़ित लड़की के पिता का कहना यह है कि उनके पास और भी बेहद अहम सबूत हैं जो कि एसआईटी को सौंपी गए हैं. पिता के दावे के मुताबिक उससे लड़की के आरोपों की पुष्टि होती है. पीड़ित परिवार ने यह भी उम्मीद जताई है कि एसआईटी अपनी जांच ठीक ढंग से करेगी. और जल्द ही उनको इस मामले में न्याय मिलेगा.

Our Video

MAIN MENU