वन विभाग द्वारा उच्च न्यायालय परिसर में कराया गया वृक्षारोपण - COVERAGE INDIA

Breaking

Saturday, August 24

वन विभाग द्वारा उच्च न्यायालय परिसर में कराया गया वृक्षारोपण


कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क प्रयागराज। 
शनिवार को वन विभाग के प्रभागीय निदेशक प्रयागराज  द्वारा उच्चन्यायालय परिसर में  पथ वृक्षारोपण कार्य कराया गया। जिसमें मा0 मुख्य न्यायाधीश तथा अन्य न्यायाधीशों द्वारा विभिन्न प्रजाति के पौधों का रोपण किया गया,  जिसमें मुख्य रूप से नीम, पीपल, पकड़, गूलर , गोल्डमोहर, और मौलश्री इत्यादि  पौधों का रोपण किया गया।

वैसे तो प्रभागीय निदेशक प्रयागराज श्री वाई0 पी0 शुक्ला द्वारा वृक्षारोपण पर  (महाकुंभ की तरह ) बहुत ही फोकस किया गया। परिसर पथ वृक्षारोपण में 42 पौधों का रोपण किया गया, हर पौधों पर सुरक्षा के लिए एक-एक आयरन गार्ड भी लगाया गया।

वृक्षारोपण की सबसे  बड़ी विशेषता यह रही  कि प्रत्येक पौधों पर वन विभाग के 1-1 कर्मचारियों अर्थात  कुल 42 कर्मचारी तैनात  किये गए थे। प्रत्येक पौधे  रोपित स्थल पर एक कुर्सी , एक फावड़ा, एक बाल्टी,  एक हाजरा, एक कन्नी , एक हजारा,  एक तौलिया,  तथा हाथ धोने के लिए 1-1 हैंडवास की व्यवस्था की गई थी उक्त सभी सामग्रियां बिल्कुल नई थी।

इस वृक्षारोपण में श्रमिकों की भी बल्ले- बल्ले रही क्योंकि श्रमिको की ब्यवस्था इन्ही कर्मचारियों को करनी थी, पारिश्रमिक भी इन्ही कर्मचारियों को देना था और मामला मा0 मुख्य न्यायाधीश का  तो श्रमिक भी मौके पर चौका मारने में क्यो चुके मनमानी मजदूरी तय कर काम पर आ गए।

पौधरोपण के बाद प्रत्येक कर्मचारी जिसको जो पौध की जिम्मेदारी दी गई थी उन पौधो में आयरन गार्ड लगवाकर उसकी R.C.C से ग्राउटिंग करवा कर न्यायालय परिसर को हरा भरा करने के लिए पूरे दिन पसीना बहाते दिखाई दिये, और जाते जाते अपनी जेब भी ढीली करते गए।
 
कुछ भी हो लेकिन DFO प्रयागराज श्री वाई0 पी0 शुक्ला जी की पौ बारह रही, हो सकता है कि मा0 मुख्य न्यायाधीश महोदय द्वारा मोमेंटो और प्रस्सति पत्र भी DFO महोदय को दिया जाय ,पर सत्य तो यह है कि रावण के भय  से भी ज्यादा फील्ड के कर्मचारी भयभीत व दहशत में है।

Our Video

MAIN MENU