हिजड़ों के बीच मर्दानगिनी मूर्खता कहलाएगी ? - COVERAGE INDIA

Breaking

Monday, August 19

हिजड़ों के बीच मर्दानगिनी मूर्खता कहलाएगी ?


रंजीत यादव, कवरेज इण्डिया गोरखपुर। 
यूपी के सहारनपुर में दिनदहाड़े शराब तस्कर ने पत्रकार और उनके भाई की गोली मारकर हत्या कर डाली हत्या के बाद गुस्साए लोगों ने हंगामा किया तो पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया. मोहल्ले वालों का आरोप है कि कई बार पुलिस से शिकायत करने के बाद भी पर पुलिस ने सुध नहीं ली।
महाराज दारू और बोटी खाने वाली पुलिस अगर सक्रिय हुई होती तो सम्भवतः आज दोनो भाई ज़िंदा होते पर पुलिस की रोटी पत्रकार के साहियोग से नही शराबी के नसीब से चलती है जितनी बिक्री उतनी कमाई होती है ये जग ज़ाहिर है।
पत्रकार तो पैदा ही होता है मरने के लिए मरो स .जब तक तुम लोग एक नही होगे विरोध नही करोगे तब तक पागल कुत्तों की भाँति मारे जाते रहोगे फिर परिवार असहाय मजबूर होकर रोड पर भीख माँगेगा संस्थाएँ कोई मददगार न होंगी ...

मेरा सवाल पत्रकारों से -
तस्करों के द्वारा ज़हरीली शराब आपके परिजन पीतेहैं क्या ?
ज़हरीली शराब का विरोध आमजन करती है क्या ?
पुलिस व्यवस्था शराब तस्करी के विरोध मे है क्या ?
अगर हाँ तो आपकी मौत पर मुझे दुःख होगा -आप सहित और लोग भी मरेंगे तो शोक मनायेंगे अगर ये सभी विरोध नही करते सिर्फ़ आप करते हैं तो आप मूर्ख हैं अपनी मूर्खता की सज़ा अपने मासूमों सहित पुरे परिजनों को दे रहे हैं क्यों की आपके मरने के बाद कोई हाल तक न पुछेगा। ये दुनिया सिर्फ़ ख़ुद का भला देखती है इस लिए जैसा देश वैसा भेष बना कर चलें ज़िंदा रहेंगे तभी परिजन ख़ुश रहेंगे
हिजड़ों के बीच मर्दानगिनी मूर्खता कहलाएगी

Our Video

MAIN MENU