सूरत में लगी आग में मरने वाले विद्यार्थीओ की मौत का जवाबदार कौन:? तंत्र या दमकल..? - COVERAGE INDIA

Breaking

Friday, May 24

सूरत में लगी आग में मरने वाले विद्यार्थीओ की मौत का जवाबदार कौन:? तंत्र या दमकल..?


रविन्द्र भदौरिया, कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क 
सूरत, सूरत के सरथाणा विस्तार में तक्षशिला कॉम्प्लेक्ष में सॉर्ट सर्किट होने से अचानक आग लग गई। वही दूसरी ओर अपनी जान बचाने के लिए कई लोग चार मंजिल से नीचे मोत की छलांग लगा दी। इधर लोग आग से बचने के लिए नीचे कूदकर अपनी जान बचा रहे थे तो दूसरी तरफ चार मंजिल से कूदकर 20 विद्यार्थी को अपनी जान गवानी पड़ी है। बताया जा रहा है कि इस कॉम्पेलक्ष मे ट्यूशन क्लास, मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल ओर लेबोरेटरी भी चल रही थी। लेकिन क्लासिस ले रहे 20 विद्यार्थीओ ने अपनी जान गवा दी । आपको बता दे कि पहले भी इस कोमोलेक्ष मे आग की घटना बनी है फिर भी दूसरी बार क्या तंत्र आग लगने की राह देख रहा था। दूसरी बार आग लगने पर भी तंत्र ने ध्यान क्यो नही दिया जब 20 विद्यार्थीओ ने अपनी जान दी जब तंत्र जागा ओर आज घटना की जगह ओर पहुचा। गौरतलब है कि इस कोपमलेक्ष में जो क्लासीस चल रही थी क्या उनकी अनुमति ली गई थी। स्थानिक लोगों के बताए अनुसार यह क्लासिस गैरकानूनी रीत से चल रही थी फिर भी तंत्र अपनी कुंभकरण की नीद में सोता रहा और कितनी माँ ने अपने जिगर के टुकड़े को खो दिया। अभी तक 50 लोग घायल होते हुए 100 लोग फंसे होने का अनुमान बताया गया। लेकिन मरने वालों की जनसँख्या अभी तक 15 बताई जा रही है। सूत्रों के द्वारा दी गई जानकारी में बताया जा रहा है कि दमकल की गाड़ी लेट पहुँचने पर आग ने अपना विकराल रूप धारण कर लिया जिसकी वजह से आज 18 विद्यार्थीओ ने अपनी जान गवाई। फिलहाल गुजरात सरकार ने आग लगने पर तहकीकात के आदेश दिए और हर सुविधा तात्कालिक दी जाए है। सूरत में लगी आग को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह ने ट्वीट करके शोक व्यक्त किया है। और गुजरात सरकार ने मरने वालों को चार लाख देने की बात कही। लेकिन नेता शंकरसिंह वाघेला ने आग लगने पर शोक जताया और जाँच की मांग की।

Our Video

MAIN MENU