रिश्तों का कत्ल: दौलत के लिए कर दी बहन की गोद सूनी - COVERAGE INDIA

Breaking

Monday, April 15

रिश्तों का कत्ल: दौलत के लिए कर दी बहन की गोद सूनी


सानू सिंह चौहान, कवरेज इण्डिया काँट/शाहजहाँपुर। 
कहावत है कि जर, जोरू, जमीन के लिए लोग रिश्तों को भूल जाते हैं। ऐसा की कुछ आरसी मिशन थाना क्षेत्र के मिश्रीपुर गांव में हुआ। दौलत के लालच में शाहनवाज ने रिश्तों का कत्ल कर दिया। मासूम भांजे को मौत के घाट उतार दिया। जब इस घटना की जानकारी लोगों को हुई तो लोगों का दिल दहल गया।

हर कोई घटनास्थल की ओर दौड़ पड़ा। मासूम की लाश को देख हर किसी की आंख भर आई। वहीं, जब बेटे की लाश घर ले जाई गई तो मां लाश से लिपटकर खूब रोई। बोली: शाहनवाज ने अच्छा नहीं किया। दौलत के लिए मेरी गोद को सूना कर दिया।


नानी की है लाखों की जायदाद
आरिस मूलता कांट के शेखान मोहल्ले का रहने वाला था। छह वर्ष पूर्व उसकी शादी शाहीन से हुई थी। शाहीन शिक्षिका हैं। इकलौती हैं, इसलिए आरिस अपनी पत्नी के संग ससुराल में ही रहने लगा था। लकड़ी बेचने का काम करता था। जुहान उसका इकलौता बेटा था। नानी की कांट रोड पर काफी जमीन है। मोहल्ले में चर्चा है कि फिरौती की रकम आरिस नहीं दे सकता था। शायद उसकी नजर जुहान की नानी की जमीन पर थी। इसलिए कहीं से भी रुपये का इंतजाम करने की बात कही। शाहीन की एक बच्ची की मौत हो चुकी है।

अपहरणकर्ता ने अपने ही पिता को फोन पर मांगी फिरौती
आरोपी शाहनवाज ने अपने ही पिता शब्बीर को फोन कर फिरौती मांगी। बोला: कहीं से भी रुपये का इंतजाम कराओ, लेकिन रुपया चाहिए। चर्चा है कि आरिस ने सुबह 50 हजार रुपया शाहनवाज की उसकी पत्नी को पहुंचाया, लेकिन शाहनवाज दस लाख रुपए लेने पर ही अड़ा था।

दादा-दादी हुए बेसुध
पोस्टमार्टम हाउस पर बैठे मृतक जुहान के दादा से उसके पोते के बारे में पूछा, तो उनकी आंख भर आई। बोले: बेटे के पास तो इतना रुपया था ही नहीं, तो वह कहां से इंतजाम करता। बोले: अभी बहू को पूरी बात नहीं बताई गई है।

Our Video

MAIN MENU