चंद पैसों के लिए धर्म को भी बाजारू बना दिया, ईश्वर और धर्म की आड़ में अश्लीललता को परोसा जा रहा है - COVERAGE INDIA

Breaking

Tuesday, April 9

चंद पैसों के लिए धर्म को भी बाजारू बना दिया, ईश्वर और धर्म की आड़ में अश्लीललता को परोसा जा रहा है


कवरेज इण्डिया धर्म कर्म। 
पहले मंच पर भगवान को नचाते थे, अब भगवान का प्रतिरुप बनाकर इन लड़के-लड़कियों से चुम्माचाटी भी करवाते हैं। विश्व के सबसे आदर्श पुरुष यौगीराज भगवान श्रीकृष्ण के प्रभावशाली व्यक्तित्व को कहां से कहां पहुंचा दिया है । अपनी उंगली पर गोवर्धन उठाने वाले और सुदर्शन धारण करने वाले को छिछौरा आशिक बना दिया। ग्रंथों में लिखा है कि विवाह के बाद भी भगवान श्रीकृष्ण ने 12 वर्ष तक ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए तप करके अनेक सिद्धियां प्राप्त की थी और आज उन्हीं के करैक्टर को किस लज्जता से गिराया जा रहा है यह अशोभनीय है , इससे बड़ी धर्म की हानि कोई हो ही नहीं सकती। जिस व्यक्ति ने धर्म का मर्म समझाया , आज उसी के मर्म को नकारकर धर्म पर आघात किया जा रहा है। इन लोगों को समय और धर्म कभी क्षमा नहीं करेगा , कभी क्षमा नहीं करेगा।

Our Video

MAIN MENU