वाराणसी से चुनाव नहीं लडेंगी प्रियंका, पीएम मोदी से हार का सता रहा है डर - COVERAGE INDIA

Breaking

Thursday, April 25

वाराणसी से चुनाव नहीं लडेंगी प्रियंका, पीएम मोदी से हार का सता रहा है डर


कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क वाराणसी। 
नई दिल्ली। विश्व की सबसे प्राचीन नगरी काशी यानि वाराणसी से प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ कांग्रेस का कौन उम्मीदवार होगा इसका रहस्य कांग्रेस ने खोल दिया है। अजय राय को कांग्रेस ने दोबारा से वाराणसी से उम्मीदवार बनाया है। इससे पहले तमाम कयास लगाए जा रहे थे कि प्रियंका गांधी वाराणसी से मोदी को पटकनी देने के लिए तैयार हैं। इससे पहले प्रियंका और राहुल के तमाम सारे इशारों और बयानों को देखा  जाय तो लग रहा था कि काशी में मोदी से दो दो हाथ करने कि लिए कांग्रेय अध्यक्ष की बहन प्रियंका वाड्रा मन बना चुकी हैं कि वह काशी में मोदी को कठिन चुनौती देने के लिए तैयार हैं। यहां तक तमाम मीडिया में ख़बरें चल रही थीं कि प्रियंका 29 को वाराणसी से नामांकन भरेंगी। आज तमाम अटकलों पर विराम लग गया।

फिलहाल भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिनका काशी यानि वाराणसी वर्तमान में संसदीय क्षेत्र है आज यानि 25 अप्रैल को सांय तकरीबन 3.30 बजे वाराणसी में विशाल रोड से करेंगे और यानि कल 26 अप्रैल को नामांकन भरेंगे। अब चूंकि प्रियंका  यदि प्रियंका काशी से चुनाव लड़ने की आधिकारिक घोषणा करती हैं तो वाराणसी का 2019 का लोकसभा चुनाव दिलचस्प हो जाएगा। लेकिन साथ में यह भी सत्य है कि प्रियंका के लिए काशी से मोदी को चुनौती देना कोई आसान काम नहीं था। क्योंकि वाराणसी में मोदी की लोकप्रियता किसी से छुपी नहीं हुई है।

इस बीच कांग्रेस के एक प्रवक्ता और एमएलसी दीपक सिंह ने दावा किया था कि प्रियंका ने वाराणसी से चुनाव लड़ने का मन बना लिया है। दीपक सिंह के मुताबिक, प्रियंका आयरन लेडी हैं और वो मजबूती के साथ नरेंद्र मोदी के सामने लड़कर जनता को बता देना चाहती है कि अब बदलाव का वक्त आ गया है।

पिछले दिनों कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी एक अंग्रेजी अख़बार को दिए साक्षात्कार में भी इसका संकेत दिया था। हालांकि उन्होंने इस पर कुछ भी साफ नहीं बोला था। लेकिन यह पूछे जाने पर कि क्या उनकी बहन वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ उम्मीदवार होंगी, उन्होंने कहा, “मैं आपको सस्पेंस में रखूंगा। सस्पेंस हमेशा खराब चीज नहीं होती है। मैं न तो इसकी पुष्टि कर रहा हूं और न ही इनकार कर रहा हूं।”

फिलहाल मोदी के खिलाफ प्रियंका गांधी का हाथ कांग्रेस द्वारा खींच लेने से यह साफ हो गया है कि कांग्रेस में अभी इतनी बड़ी ताकत नहीं है कि मोदी के खिलाफ अपना कोई बड़ा उम्मीदवार मैदान में उतार सके। क्योंकि ख़बर यह भी थी कि कांग्रेस की एक टीम वाराणसी में पिछले 10 दिनों से यह टोल लगाने में जुटी हुई थी कि मोदी को प्रियंका सीधे टक्कर देने की स्थिति में हैं कि नहीं। लगता है कांग्रेस ने इन्हीं तथ्यों को देखते हुए अपनी फजीहत बचाने के लिए मैदान से हटा लिया।

Our Video

MAIN MENU