कश्मीर में बीजेपी भूल गई हिंदू राग, मुस्लिम वोट पाने के लिए भगवा रंग ही गायब - COVERAGE INDIA

Breaking

Friday, April 5

कश्मीर में बीजेपी भूल गई हिंदू राग, मुस्लिम वोट पाने के लिए भगवा रंग ही गायब


कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क। 
नई दिल्ली: लोकसभा चुनावों की उलटी गिनती शुरू हो गई। ऐसे में बीजेपी दुबारा सत्ता में आने के लिए हर वर्ग को लुभाने का फैसला कर चुकी है। जिसका एक उदाहरण ये विज्ञापन है। दरअसल, सोशल मीडिया पर एक विज्ञापन खूब शेयर किया जा रहा है।

यह चुनावी विज्ञापन है जोकि जम्मू कश्मीर के अखबारों में छपा है। इस विज्ञापन में बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे खालिद जहांगीर को वोट देने की अपील की गई है। इस विज्ञापन में बड़े पैमाने पर हरे रंग का इस्तेमाल किया गया है। बीजेपी का चुनाव चिह्न कमल सफेद रंग में दिखता है। इसके अलावा, पीएम नरेंद्र मोदी की फोटो भी दिखती है। विज्ञापन में उर्दू भाषा में स्लोगन लिखा है जिसका मतलब है कि झूठ छोड़ें, सच बोलें। इसके अलावा, उर्दू में ही बीजेपी को वोट देने के लिए कहा गया है।

जब बीजेपी नेताओं से अखबारों में छपे विज्ञापनों में रंग के इस्तेमाल पर सवाल गया तो उनका कहना है कि पार्टी के झंडे में एक रंग हरा भी है। बीजेपी नेताओं की ये दलील है विज्ञापन में हरे रंग का इस्तेमाल सिर्फ इसलिए किया गया है क्योंकि यह शांति और विकास का प्रतीक है। भगवा रंग गायब क्यों है, इस वाल पर उन्होंने कहा कि कश्मीर घाटी पहले कमल की धरती पहले से है और बीजेपी हर रंग को भी पेश करना चाहती थी।

उधर, नैशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने भी बीजेपी को निशाने पर लिया है। अब्दुल्ला ने कहा कि बीजेपी का भगवा अब हरे रंग में तब्दील हो गया है कि क्योंकि कश्मीर पहुंच चुका है। अब्दुल्ला ने कहा, ‘भरोसा नहीं होता कि पार्टी को वाकई ऐसा लगता है कि यह वोटरों को मूर्ख बना सकती है जबकि वह खुद को इस तरह से मूर्ख साबित कर रही है।’

वहीं कहां भी जाता जम्मू कश्मीर को हरा रंग बेहद पसंद है इसलिए वोटरों को लुभाने के लिए बीजेपी ने अपने विज्ञापन हरे रंग में प्रकाशित करवाए हैं। अब इसके पीछे क्या कहानी है ये तो नेता ही जानें लेकिन हम तो आपसे ये ही कहेंगे जिससे भी चुनने बेहतर चुनें प्रगति के लिए चुनें।

Our Video

MAIN MENU