पुलिस की मिलीभगत से चल रहा सट्टा कारोबार, वेटर बना करोड़पति - COVERAGE INDIA

Breaking

Saturday, April 6

पुलिस की मिलीभगत से चल रहा सट्टा कारोबार, वेटर बना करोड़पति


सट्टा कारोबार के किंगमेकरों का संछिप्त इतिहास!

बात करते हैं सट्टा कारोबार से जुड़े मुख्य आकाओं की!

1-पवन सक्सेना- मूलतः मोहल्ला हुसैनपुरा चौकी बेरी थाना कोतवाली जनपद शाहजहांपुर का मूल निवासी है इससे पहले की बात की जाए तो पवन सक्सेना बहुत ही शातिर किस्म का व्यक्ति रहा है। शुरुआत दौर की बात की जाए तो छोटी-मोटी चोरियां रेलवे आदि में करता था। कई बार चोरी के मामलों में कई बार जेल भी गया जब अपराधिक इतिहास बना तो इसके द्वारा युवाओं को बरगला कर अपराध की ओर मोड़ कर अपने गुर्गे तैयार कर अपना खुद का सट्टे का कारोबार शुरू किया। कारोबार शुरू होते ही प्रशासन की नजरें टेढ़ी होते देख जो भी सरकार रही उस नेता को संपर्क में लेकर अपनी मजबूत पकड़ बनाकर संबंधित चौकी थाना में अपनी सेटिंग कर कारोबार में दिन दुगनी रात चौगुनी तरक्की करने लगा।

 इससे पहले पवन सक्सैना दिल्ली दरबार होटल में वेटरी का काम करता था देखते ही देखते बेटर से करोड़पति बन गया आज की अगर बात की जाए तो सक्सेना के पास काफी बेनामी संपत्ति के साथ साथ चार मकान स्कॉर्पियो गाड़ी अल्टो गाड़ी आने जाने के लिए गुर्गों के पास बुलेट गाड़ियां उपलब्ध है। जिनसे सट्टा किंग के गुर्गे बसूली आदि का कार्य करते हैं जनपद में वर्तमान में सट्टा किंग का अपना एक अलग ही स्थान है।

 सरकार चाहे जिसकी रही हो सट्टा किंग का जलवा हमेशा बरकरार रहा। छुट भैया नेताओं से लेकर शासन प्रशासन में बैठे लोगों में भी मजबूत पकड़ के कारण ज्यादा दिन जेल में रहना नहीं पड़ता अगर ज्यादा दबाव में प्रशासन द्वारा जेल भेज भी दिया जाता है तो जल्द ही जमानत पर रिहा होकर पुनः अपने साम्राज्य को दोगुनी गति से आगे बढ़ाता है।

 वर्तमान समय में आईपीएल शुरू होते ही सट्टा किंग करोड़ों के कारोबार का बिजनेस रोजाना करता है अगर देखा जाए तो इस पूरे कारोबार में शहर के गरीब एवं मध्यम वर्ग युवा जल्द पैसा कमाने की वजह से अपराध की दुनिया की ओर अग्रसर हो रहे हैं चाहे चोरी की घटनाएं जहर खुरानी हो चाहे आत्महत्या की घटनाएं हो उनके पीछे के कारण अगर देखा जाए तो कहीं ना कहीं इनका मूल कारण सट्टा ही है।

अगर प्रशासन या शासन की बात की जाए तो कोतवाली से लेकर अपने क्षेत्र की मशहूर चौकी बेरी में चौकी इंचार्ज जो भी आएगा वह पवन सक्सैना का होकर ही रहेगा चौकी चढ़ावा में भी बहुत ताकत होती है और वह भरपूर चलता है सट्टा किंग के यहां से इसलिए चाह कर भी कुछ करने के लिए शासन प्रशासन होता है विवश क्योंकि एक तरफ पैसा एक तरफ कलम कलम हमेशा पैसे से दबी रहती है।

2- सराय काइयां आरसी मिशन में विक्की और तसलीम वहीं बहादुरगंज में राहुल गुप्ता लगवा रहे खुलेआम सट्टा।

पुलिस की जानकारी में चल  रहा जम कर सट्टा कारोबार!

सट्टा बालों का नेटवर्क ग्रामीण क्षेत्र में भी पनप रहा है।

जलालाबाद में मोहल्ला प्रताप नगर में बरेली से आया एक युवक व बरेली रोड़ पर सत्ता व विपक्ष के सहयोग से लगाया जा रहा सट्टा!

जलालाबाद में सट्टा लगवाने में एक मेम्बर का हाँथ
सट्टा के कारण आये दिन चर्चाओं में रहता है इसके साथ ही बाइक चोरी की भी हो रही घटनाएं!

 आईपीएल का 12वां सीजन शुरू होने के बाद सट्टा पर पुलिस कोई रोकथाम नही कर पा रही है।जिसके कारण हारने बाले युवा अपराध की ओर बढ़ रहे है।
 सट्टे के इस खेल में कोई एक झटके में कंगाल होगा, तो कोई एक झटके में मालामाल हो जाएगा।

पुलिस की सुस्ती
यह पूरा नेटवर्क लैपटॉप, मोबाइल, वाइस रिकॉर्डर वगैरह पर ही चलता है। इसमें एजेंटों को नेता से लेकर अपराधी किस्म के लोगों का संरक्षण प्राप्त रहता है। हालांकि यह खेल पिछले कई सालों से चल रहा है। पुलिस के सुस्त रवैये व संरक्षण से इनका खेल आज भी जारी है।

कोड वर्ड का गेम
क्रिकेट के सट्टे का बाजार कोड वर्ड का है और इस खेल में कोड है। खास बात यह है कि सट्टा लगाने वाले शख्स को लाइन कहा जाता है, जो एजेंट यानी पंटर के जरिए बुकी (डिब्बे) तक बात करता है। एजेंट को एडवांस देकर अकाउंट खुलवाना पड़ता है,जिसकी एक लिमिट होती है। सट्टे के भाव को डिब्बे की आवाज बोला जाता है। सट्टेबाज 20 ओवर को लंबी पारी, दस ओवर को सेशन और छह ओवर तक सट्टा लगाने को छोटी पारी खेलना कहते हैं। मैच की पहली गेंद से लेकर टीम के जीत तक भाव चढ़ते- उतरते हैं।

कैसे लगता है रुपया
आईपीएल मैच के दौरान सट्टे के इस खेल में मैच शुरू होने से पहले दोनों टीम का रेट जारी किया जाता है, जो हर गेंद से लेकर टीम की जीत तक भाव चढ़ते- उतरते हैं। इसी दौरान मैच में सट्टा लगाने वाले अपनी मनपसंद टीम पर भाव के हिसाब पर रुपया लगाते है। अगर टीम जीत जाती है तो भाव के हिसाब से रुपया मिलता है और अगर टीम हार जाती है, तो एजेंट को रुपया देना होता है!

Our Video

MAIN MENU